Saturday, 19 September 2015

बेटी बचावव


                        एकांकी
पात्र - परिचय
1- रामलाल - घर के मुखिया । उमर - 50 बरिस ।
2- कमला  - रामलाल के गोसाइन । उमर - 45 बरिस ।
3- पवन - रामलाल के बेटा । उमर - 26 बरिस ।
4 - पूजा - कमला के बहू । उमर - 22 बरिस ।
5 - शोभा- कमला के बेटी । उमर - 21 बरिस ।
6 - श्याम - पूजा के भाई । उमर - 24 बरिस ।

                      पहिली - दृश्य 


[ गॉव के घर । अंगना हर गोबर म लिपाय - बहराय - औंठियाय - चौंक पुराय । रामलाल हर अपन सुआरी कमला ल कुछु समझावत हे , कपार म सलवट पर गए हे , तेन हर दुरिहा ले दिखत हे ।]

रामलाल - अपन बहू ल समझा दे , अब ओहर नौकरी नइ कर सकय । हमर घर के बहू - बेटी मन नौकरी नइ करैं । ए बात ल वोहर जतके जल्दी समझ जावय ओतके अच्छा ।
  कमला- बहू नौकरी करत हे तेमा का नकसान हे ? अब जमाना बदल गए हे , हमुँ मन ल जमाना के संगे -संग रेंगे बर परही, नइतो हम पछुआ जाबो । जौन दुख ल मैं भोगे हँव तेला मोर बहू ल नइ भोगन दवँ ।
रामलाल - तोर संग तो गोठियाना अबिरथा हे ! हर बात के उल्टा मतलब निकालथस । तोर भेजा म तो गोबर भरे हावय ।
कमला - महूँ हर तुँहर बारे म अइसने कह सकत हँव ! मोर अच्छाई ल मोर कमजोरी झन समझव ।
रामलाल - हे भगवान ! मोर गोसैंनिन ल थोरिक अक्कल दे दे ।
कमला - अक्कल के जादा जरूरत तुँहला हावय ।
          [ बहू आइस हे ]
पूजा - दायी ! मैं हर ऊँकर मन बर चाय बनावत हौं तव तुहूँ मन बर बना लवँ का ?
कमला - हॉ बेटा ! बना ले, चाय के बेरा तो हो गए हे ।
रामलाल - हमर बहू कतेक अक्कल वाली हे ! देख हमर कतका ध्यान रखथे ? कोजनी शोभा मेर कइसे व्यवहार करही ? एही बात के भारी चिन्ता हे ।

कमला -मैं हर तुँहला कतका समझायेंव कि सच बात ल बता दव फेर तुँमन नइ मानेवँ ! अब मैं का करौं ?
पूजा- दायी ! एदे - गरमागरम चाय अऊ संग म आलू - भॉटा के भजिया ।
कमला - बेटी ! तैं चाय ल पॉच - कप कैसे बनाए हस ? हमन तो चारे झन हावन न ?
पूजा - दायी ! तैं शोभा ल कइसे भुला गए ? वोहर घर म नइये का ?
[ रामलाल के हाथ ले चाय हर छलक जाथे अऊ कमला के हाथ ले चाय के कप हर गिर जाथे अऊ कप के फूटे के आरो ले सबो सुकुर्दुम हो जाथें । सास - ससुर ल हडबडावत देख के पूजा हर कहिस ]
पूजा - तुमन चिन्ता झन करव । मैं एला सकेलत हौं ।
[ वोहर कप के कुटा मन ल बिन के ले जाथे ]

पूजा - दायी ! ए दे चाय ।

[ पवन अऊ पूजा सरी घर ल खोज डारिन फेर शोभा वोमन ल नइ मिलिस । थक - हार के पवन हर अपन दायी ल पूछिस ]
पवन - दायी ! शोभा कहॉ हे ?
कमला- [ असकटाय के चोचला करत हे ] शोभा अपन कुरिया म हावय ।
पवन - वोकर कुरिया म तो तारा लगे हे दायी !
कमला - ए ले कूची ल , जा खोल दे ।

[ पवन हर कूची ल पूजा के हाथ म दिहिस अउ कहिस - ]
पवन - दायी - ददा मन शोभा ल कुरिया म धॉध देहे हें - ए ले कूची , जा देख मरगे धन जियत हे ।[ अपन दायी - ददा ल रिस कर के देखथे ।] वोहर खोरी हे तेमा वोकर का गलती हे ? अपनेच लइका बर अइसे व्यवहार ? ओइसे पूजा ! महूँ हर इंजीनियर नइ औं । मैं हर एम.ए. बी. एड. हावौं । शिक्षा - कर्मी , वर्ग एक म , लइका -मन ल पढाथौं । कभु -कभु मुँह खोलना जरूरी होथे दायी ! तेकर सेती बोलत हौं । एही बात मोर ददा घलाव समझ लेतिस तव ए नौबत नइ आतिस । मोला, पूजा के आघू म मुँह लुकाए बर नइ परतिस ।

                       दूसरा - दृश्य 


[ पूजा हर जब कुरिया के कपाट ल खोलिस तव सरी कुरिया बस्सावत हे अऊ शोभा हर बेहोश परे हे , वोहर रोवत - चिल्लावत , दायी के कुरिया कती भागत हे ]
पूजा - दायी ! पूजा के होश नइए अऊ ओकर मुँह ले गजरा निकलत हे ।
[ तुरते - ताही पवन हर बैद ल बला के लानिस हे । सबो झन के मुँह सुखा गय हावय ।]
बैद - फिकर के कोनो बात नइए । एकर ऑखी म जुड - पानी छींच दव । मूर्छा ले जाग जाही तव लिमाउ - पानी पिया देहौ अउ जौन खाही तौन खवा देहौ ।
[ पूजा हर शोभा के ऑखी म पानी छीचथे तहॉ ले शोभा हर ऑखी उघारथे अऊ एती - तेती निहारथे । शोभा के तबियत ल देख के पूजा अब्बड रोवत हे , वोकर ऑखी लाल हो गए हे । वोहर सपना म नइ सोंचे रहिस हे कि कहूँ दायी - ददा , अपन लइका संग ,अइसे व्यवहार कर सकत हे । वोहर शोभा के ध्यान अइसे राखे लागिस जइसे शोभा हर वोकर सगे छोटे बहिनी ए । दुनों ननद - भौजाई गोठियावत हें, आवव हमुँ मन सुनबो ।]

शोभा - भौजी ! मोर दायी - ददा मन मोला चिराय - ओन्हा सरिख काबर लुकावत रहिथें ? कभु - कभु मैं सोंचथौं के यदि मैं हर बाबू होतेंव तभो मोर दायी - ददा मन मोला अइसने तारा लगा के धॉध देतिन ? नोनी लइका ल कतका अपमानित होना परथे न भौजी ! वोला वो गलती के सजा मिलथे, जेला वोहर कभु करेच नइए ।[ वोहर अपन भौजी ल पोटार के अब्बड रोथे ] तोर सिवाय मोर कोनों नइए भौजी !
पूजा - झन चिन्ता कर, मैं हावँवँ न !
शोभा - भौजी । तैं हर तो खैरागढ ले लोक - गीत म एम. ए. करे हावस न ? महूँ ल सिखो दे न, भौजी !
पूजा - मन लगा के सीखबे तव सिखोहँवँ । अइसने रोना - गाना करबे तव कइसे सीखबे ?
शोभा- मैं मन लगा के सीखिहँवँ भौजी ! मैं तोला निराश नइ करौं ।

[ हमन सब झन बुता करत - करत थक जाथन अऊ थक - हार के सुत जाथन  फेर काल के चक्का नइ थिरावय वोहर रेंगतेच रहिथे । पूजा ह अपन ननद ल लोक - गीत सिखोवत गइस अउ शोभा हर मन लगा के सीखिस अब वोहर बडे - बडे कार्यक्रम म गाथे । आवव हमुँ मन सुनबो , वोहर " भरथरी " गावत हे ।]
शोभा -
 ए दे नोनी पिला के जनम ल धरे तोर धन भाग ए ओ मोर नोनीsssssss
तैं ह बेटी अस मोर तैं ह बहिनी अस मोर संगवारी अस मोर
महतारी अस महतारी अस मोर नोनीsssssssss

लइका ल कोख म वोही धरथे भले ही पर - धन ए मोर नोनी
सब ल मया दिही भले पीरा सइही भले रोही गाही
वोही डेहरी म वोही डेहरी म मोर नोनीssssssssss

पारस - पथरा ए जस ल बढाथे मइके के ससुरे के मोर नोनी
वोला झन हींनव ग वोला झन मारव ग थोरिक सुन लेवव ग
गोहरावत हे गोहरावत हे मोर नोनी ssssssssssss।

पूजा - तैं बिकट - बढिया गाए हावस ओ शोभा !फेर मैं हर चाहत हँवँ के तैं हर गीत के पीरा ल महसूस कर, वो पीरा हर तोर गीत म तोर चेहरा म दिखय, तव आउ सुघ्घर गाबे ।
शोभा - ठीक कहत हस भौजी ! मैं कोशिश करिहौं ।

[ श्याम हर पूजा के भाई ए । वोहर भाई - द्विज म अपन बहिनी के घर म आए हे । पूजा हर अपन भाई के पूजा करके आरती करत रहिस हे ततके बेर लकठा म कोनों मेर ले एक झन छोकरी हर " कजरी " गावत रहिस हे  ]
" रंगबे तिरंगा मोर लुगरा बरेठिन
किनारी म हरियर लगाबे बरेठिन ।

झंडा - फहराए बर महूँ  हर जाहँवँ
ऊपर  म  टेसू रंग -  देबे - बरेठिन ।

सादा - सच्चाई बर हावय जरूरी
भुलाबे झन छोंड देबे सादा बरेठिन ।

नील रंग म चर्खा कस चक्का बनाबे
नभ  ल अमरही -तिरंगा - बरेठिन ।

          तीसरा - दृश्य 


श्याम - पूजा ! ए मेर कोन गावत हे ? वोहर देश - प्रेम म  "कजरी" गावत हे फेर ओकर गीत म अतेक पीरा काबर हावय ? पूजा बता न ! कोन गावत हे ? तैं वोला जानथस का ?
पूजा - गावत होही कोनो । तोला का करना हे ?
श्याम - पूजा ! मैं वो छोकरी के सुर के गुलाम बन गय हावौं । वोकर बर मैं अपन जिंदगी ल दॉव म लगा सकत हावौं , समझे ?
पूजा - वोहर लूली - खोरी, अँधरी रइही तभो तैंहर .............
श्याम - हॉ पूजा हॉ, वो जइसे भी होही मैं वोला अपनाए बर तियार हँवँ ।
[ तभे गीत के आखरी दू लाइन ल गुनगुनावत शोभा हर वोही मेर आ गे ]
शोभा-
 रंगबे - तिरंगा मोर लुगरा बरेठिन
किनारी म हरियर लगाबे बरेठिन ।
[ कजरी गावत - गावत शोभा हर अपन भौजी के कुरिया म आथे अऊ अनजान मनखे ल देख के ठिठक जाथे , श्याम अऊ शोभा एक -दूसर संग गोठियाइन तो नहीं फेर तिरिया के दुनों झन चल दिहिन । अरे ! एमन आपस म ऑखी काबर चोरावत हावैं ? ऐसे लागत हे के ए दूनों झन बहुत जल्दी बहुत नजदीक आवत हें । आज पूजा अपन शिष्या शोभा ल " बिहाव - गीत " गाए बर सिखोवत हे काबर कि देव - उठनी अकादसी लकठिया गए हे । गॉव के गुँडी म "बिहाव - गीत" के कार्यक्रम हे, दस - बारह गॉव के मनखे मन जुरे हावँयँ । शोभा हर " बिहाव - गीत " गावत हे, पूजा ह हरमुनिया बजावत हे, पवन हर ढोलक बजावत हे आउ श्याम हर बॉसुरी बजावत हे ।]
शोभा -
सियाराम के होवत हे बिहाव गौरी - गनेश बेगि आवव ।
शुभ - शुभ  होही  सब  काज गौरी - गनेश बेगि आवव ॥

बॉस - पूजा होही मँडवा म पहिली
उपरोहित ल  झट के बलाव  गौरी - गनेश  बेगि आवव ।
सियाराम के होवत हे बिहाव गौरी - गनेश बेगि आवव ।
शुभ - शुभ  होही  सब  काज गौरी - गनेश बेगि आवव ॥

चूल - माटी खनबो परघा के लानबो
माटी  के  मरम  ल  बताव  गौरी - गनेश  बेगि  आवव ।
सियाराम के होवत हे बिहाव गौरी - गनेश बेगि आवव ।
शुभ - शुभ  होही  सब  काज  गौरी - गनेश बेगि आवव ।

भॉवर - परे  के  महूरत  हर आ  गे
सु - आसीन  मंगल  गाव  गौरी  - गनेश  बेगि  आवव ।
सियाराम के होवत हे बिहाव गौरी - गनेश बेगि आवव ।
शुभ - शुभ  होही  सब  काज गौरी - गनेश बेगि आवव ॥

बर - कइना  दुनों  ल असीस  देवव
आघू  ले  दायी - बेटा आव  गौरी - गनेश  बेगि  आवव ।
सियाराम के होवत हे बिहाव गौरी - गनेश बेगि आवव ।
शुभ - शुभ  होही  सब काज  गौरी - गनेश बेगि आवव ॥

हरियर  हे  मडवा  हरियर  हे मनवा
जिनगी  ल  हरियर  बनाव  गौरी - गनेश  बेगि  आवव ।
सियाराम के होवत हे बिहाव गौरी - गनेश बेगि आवव ।
शुभ - शुभ  होही  सब  काज गौरी - गनेश बेगि आवव ॥

[ बिहाव - गीत हर सम्पन्न होइस तइसने पवन हर कहिस ]
पवन - सबो झन ल साखी मान के आज मैं हर श्याम ल एदे अपन बहनोई बनावत हावँवँ  [ वोहर श्याम ल हरदी के टीका लगाइस अऊ शगुन के रूप म 101 रुपिया धराइस हे आउ श्याम हर वोकर पॉव -पर के आशीर्वाद लिहिस हे ।]
पवन - आज मोर बहिनी शोभा हर " बिहाव - गीत " गाइस हावय । आज ले ठीक तीन दिन बाद पुन्नी के दिन गोधूलि वेला म एकर बिहाव होही । सबो झन ल नेवता देवत हँवँ  मोर बहिनी ल असीस देहे बर खचीत आहव ।
[ अचानक  पवन के दायी - ददा मन पवन के तीर म आथें अऊ दुनों झन हाथ जोर के, गॉव भर के आघू म स्वीकार करथें कि हमन भारी गलती करे हन, तेकर माफी मॉगे बर आए हावन हो सकही तव हमन ल माफ कर देहव । ]
रामलाल - मैं सबो झन के आघू म ए बात ल स्वीकार करत हावँवँ के मैं हर खुद अपन लइका मन संग    दुश्मन  कस व्यवहार करे हवँ । मैं हर अपन दुनों लइका मन मेर हाथ जोर के माफी मॉगत हवँ । हो सकही तव तुमन मोला माफ कर देहव ।
[ अतका म पूजा हर धरा- रपटा शोभा ल धर के  ओ मेरन आइस अऊ कहिस - ]
पूजा - सियान मन के माफी मँगाई हर नइ फभय ! जौन बीत गे तेला भुलावव अऊ बर - बिहाव के तियारी करव । तुमन शोभा ल आशीर्वाद देवव, [ अइसे कहि के उँकर दुनों झन के आघू म शोभा के मूड ल थोरिक नवाइस , तहॉ ले दुनो झन शोभा ल पोटार के पछता - पछता के अब्बड रोइन, फेर ए ऑसू म घलाय आनन्द के खजाना लुकाय हे , है न ? ]
     
शकुन्तला शर्मा , 288/ 7 मैत्री कुञ्ज भिलाई - 490006 , दुर्ग [ छ. ग.]
                   
            

5 comments:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति । बहुत अच्छा लिखती है आप । मेरी ब्लॉग पर आप का स्वागत है ।

    ReplyDelete
  2. बहुत दिनों से आप ने कुछ लिखा नहीं. रचना के इंतजार में.

    ReplyDelete
  3. Khag hi jañe khag ki bhasha. Ham to sirf yah jañate hai ki Aap badiya likhati hai. Kaushik Gañesh

    ReplyDelete